Bhakti Sufi Paramparayen

भक्ति- सूफी परम्पराएं
धार्मिक विश्वासों में बदलाव और श्रद्धा ग्रन्ध (लगभग 8 वीं से 18 वीं सदी तक)
इतिहास कक्षा 12वीं
पाठ – 6


Bhakti Sufi Paramparayen: स्मरणीय बिंदु

* इस काल के नूतन साहित्यिक स्रोतों में संत कवियों की रचनाएँ है।

* इतिहासकार इन संत कवियों के अनुयायियों द्वारा लिखी गयी उनकी जीवनियों का भी इस्तेमाल करते है।

* भक्ति आंदोलन का प्रमुख उद्देश्य असमानता ऊँच-नीच, आमिर-गरीब, छोटे-बड़े की भावनाओं को समाप्त करना था।

* पूरी, उड़ीसा अदि जगहों पर मुख्य देवता को 12 वीं शताब्दी तक आते- आते जगन्नाथ विष्णु के स्वरूप के रूप में प्रस्तुत किया गया।

* देवी की उपासना अधिकतर सिंदूर से पोते गए पत्थर के रूप में ही की जाती थी।

* इस कल में बहुत- भक्ति भक्ति परम्पराओं में ब्राह्मण, देवताओं और भक्त जनों के बिच महत्वपूर्ण बिचौलियें बने रहे।

* प्रारंभिक भक्ति आंदोलन अलवारों लगभग 6ठी शताब्दी ईस्वी में अलवारों और नयनारों के नेतृत्व में हुआ। इन्होने जाती प्रथा और ब्राह्मणों की प्रभुता के विरोध में आवाज उठायी। इन्होने स्त्रियों को महत्वपूर्ण स्थान प्रदान किया। अंडाल एक स्त्री अलवार संत थीं तथा अम्मइयार कराईकल एक नयनार स्त्री संत थीं। नलयिरादिव्याप्रबंधम अलवार संतों का प्रमुख संकलन है। इस ग्रन्थ को तमिल में पांच वेध का स्थान प्राप्त है।

* धर्म के इतिहासकार भक्ति परम्परा को दो मुख्या वर्गों में बाँटते है। ( क ) सगुन- शिव, विष्णु तथा उनके अवतार व् देवियों की आराधना की जाती है। ( ख) निर्गुण – इसमें अमूर्त, निराकार ईश्वर की उपासना की जाती थी।

* 12वीं शताब्दी में कर्नाटक में एक नविन आंदोलन का उद्भव हुआ जिसका नेतृत्व बासवन्ना नामक एक ब्राह्मण ने किया। इसे वीर शैव या लिंगायत आंदोलन कहते है। इन्होंने पनर्जन्म में शिद्धान पर प्रश्न चिह्न लगाया। वयस्क व् विधवा विवाह को मान्यता प्रदान की। ये शिव की आराधना लिंग रूप में करते है।

* “जिम्मी” वे लोग थे जो उद्घटित धर्म ग्रन्थ को मानने वाले थे जैसे इस्लामी शासकों के क्षेत्र में रहने वाले यहूदी और ईशाई।

* जिन्हों ने इस्लाम धर्म काबुल किया उन्होंने सैद्धांतिक रूप से इसकी पांच मुख्य बातें मानी। (1) ‘ अल्लाह ‘ एक मात्रा ईश्वर है। (2) पैगम्बर मोहम्मद उनके दूत है। (3) खैरात (ज़कात) बाँटनी चाहिए। (4) रमजान के महीने में रोजा रखनी चाहिए। (5) हज के लिए मक्का जाना चाहिए।

* 16 वीं शताब्दी तक आते- आते अजमेर की ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह बहुत ही लोकप्रिय हो गयी। इन्होंने भारत में चिश्ती संप्रदाय ( सिलसिला ) की शुरुआत की। यह पीर ( गुरु ) मुरीद ( शिष्य ) परम्परा पर आधारित था। इसमें खानकाह ( पीर के रहने का स्थान ) का काफी महत्व था।

* बाशरा – शरियत को पसंद करने वाले सूफी थे। बेशरा – शरियत की अवहेलना काने वाले सूफी थे।

* कबीर की बानी तीन विशिष्ट परिपाटियों में संकलित है: (1) कबीर बीजक (2) कबीर ग्रंथावली (3) आदि ग्रन्थ साहिब ।

* मीरा बाई भक्ति परम्परा की सबसे सुप्रशिद्ध कवित्री है। इनके गुरु संत रविदास नीची जाती से थे। गुजरात और राजस्थान के गरीब परिवार में मीरा प्रेरणा की स्रोत है।

* चितम्बरम, तंजावुर और गंगैकोंडा चोलपुरम के विशाल शिव मंदिर चोल सम्राट की मदत से निर्मित किये गए थे।

* चोल सम्राट प्रान्तक प्रथम ने कवी अप्पार संबदर और सुंदरार की धातु प्रतिमाएँ एक शिव मंदिर में स्थापित करवाई।

* नाथ, जोगी सिद्ध जैसे धार्मिक नेता रूढ़िवादी ब्राह्मणीय सांचे के बाहर इन्होंने वेदों की सत्ता को चुनौती दी तथा अपने विचार आम लोगों की भाषा में लिखें।

* सैद्धांतिक रूप से मुस्लमान शासकों को उलमा के मार्गदर्शन पर चलना होता था, तथा उनसे आशा की जाती थी वे शासन में शरीयत के नियमों का पालन करवाएंगे।

* मलेच्छ :- प्रवासी समुदाय को कहा जाता था। यह वर्ण नियमों का पालन नहीं करते थे तथा संस्कृत से भिन्न भाषाएँ बोलते थे।


महत्वपूर्ण वस्तुनिष्ट प्रश्न-उत्तर: Bhakti Sufi Paramparayen: स्मरणीय बिंदु

1 कराईकल अम्मईयार नामक महिला किसकी भक्त थी?
(a) विष्णु 
(b) शिव 
(c) राम 
(d) कृष्ण 

2 विष्णु को अपना पति कौन मानती थी?
(a) रूपमती 
(b) कराईकल 
(c) मीरा 
(d) अंडाल 

3 शाहजहाँ की किस पुत्री ने ख्वाज़ा मोईनुद्दीन चिश्ती साहब की अजमेर स्थित दरगाह का वर्णन किया है?
(a) जहाँआरा 
(b) रोशनआरा 
(c) गोहरआरा 
(d) हमीदा 

4 पुष्टिमार्ग का जहाज किसे कहा जाता था?
(a) कबीर 
(b) वल्लभाचार्य
(c) नानक 
(d) रैदास 

5 तलवंडी (ननकाना साहिब) किसका जन्म स्थान था? 
(a) नानक 
(b) कबीर 
(c) रैदास 
(d) मीरा 

6 बलबन की पुत्री का विवाह किस सूफी संत के साथ हुआ था?
(a) निजामुद्दीन औलिया 
(b) फरीदउद्दीन गंज ऐ शकर 
(c) कुतबुद्दीन बख्तियार काकी 
(d) मुईनुद्दीन चिश्ती 

7 राजकुमार दारा का संबंध किस सिलसिले से था?
(a) सुहरावर्दी
(b) चिश्ती 
(c) कादिरी
(d) कुबरविया

8 ख्वाज़ा मुईनुद्दीन चिश्ती साहब की अजमेर स्थित दरगाह पर सर्वप्रथम कौन-सा सुल्तान गया? 
(a) मुहम्मद-बिन-तुगलक 
(b) बलबन 
(c) अलाउद्दीन खिलजी 
(d) अकबर 

9 सूफी मत की फिरदौसी शाखा निम्न में से कहाँ सबसे अधिक पनपी? 
(a) बिहार 
(b) बंगाल 
(c) उड़ीसा 
(d) दिल्ली 

10 ख्वाज़ा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह कहाँ है?
(a) दिल्ली 
(b) अजमेर 
(c) आगरा 
(d) जयपुर 

11 पाहन पूजे हरी मिले……….किसकी काव्य पंक्ति है?
(a) तुलसीदास 
(b) सूरदास 
(c) रहीम 
(d) कबीर 

12 शंकराचार्य का मत है-
(a) द्वैतवाद
(b) द्वैताद्वैतवाद
(c) अद्वैतवाद
(d) भेदाभेदवाद 

13 निजामुद्दीन औलिया किस सूफी सिलसिले से संबंधित है?
(a) चिश्ती सिलसिला 
(b) सुहरावर्दी 
(c) कादिरी 
(d) फिरदौसी 

14 वल्लभाचार्य का जन्म कहाँ हुआ था?
(a) वाराणसी 
(b) आगरा 
(c) बैंगलोर
(d) श्रीरंगपट्टनम

15 शेख कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी का संबंध की सूफी संप्रदाय से है?
(a) कादिरी 
(b) सुहरावर्दी 
(c) नक्सवरी 
(d) चिश्ती 

16 निजामुद्दीन औलिया की दरगाह कहाँ है?
(a) आगरा 
(b) दिल्ली 
(c) अजमेर 
(d) फतेहपुर शिकरी 

17 काशी में किस प्रशिद्ध संत का जन्म हुआ?
(a) कबीर 
(b) मीरा 
(c) वल्लभाचार्य
(d) गुरुनानक 

18 औरंगज़ेब का संबंध किस सूफी सिलसिले से था?
(a) नक्शबंद 
(b) चिश्ती 
(c) सुहरावर्दी 
(d) कादिरी 

19 “सुल्तान उल हिन्द” किसे कहा गया?
(a) फरीद 
(b) निजामुद्दीन औलिया 
(c) शेख सलीम चिश्ती 
(d) ख्वाज़ा मोईनुद्दीन चिश्ती 

20 बंगाल के प्रशिद्ध संत कौन थे?
(a) जैतन्य महाप्रभु
(b) गुरुनानक
(c) कबीर 
(d) बाबा फरीद 

21 किस भक्ति संत ने अपने संदेश के प्रचार के लिए सबसे पहले हिंदी का प्रयोग किया?
(a) कबीर 
(b) दादु 
(c) रामानंद
(d) तुलसीदास 

22 उत्तर भारत में भक्ति आंदोलन का आरंभ किस संत ने शुरू किया?
(a) रामानंद 
(b) कबीर 
(c) चैतन्य 
(d) नानक 

23 बीजक में किसका उदेश संगृहित है?
(a) गुरुनानक 
(b) कबीर 
(c) चैतन्य 
(d) रामानंद 

24 कुतुबमीनार का निर्माण किसने शुरू किया?
(a) कुतबुद्दीन ऐबक 
(b) इल्तुतमिस
(c) जलालउद्दीन खिलजी 
(d) रजिया सुल्तान

25 कबीर शिष्य थे?
(a) रामानुज के 
(b) नानक के 
(c) रामानंद के 
(d) श्रीरंगम के 


Thank you very much for visiting our website to read The Enemy Ncert book solutions. Our aim in creating this website is to promote free education. It is not possible to do this noble work alone, so we need help from those who want to support us in this purpose. You can follow our various pages to support us, whose links are given below:

Leave a Comment