history class 8

उपनिवेशवाद और शहर एक शाही राजधानी की कहानी।

उपनिवेशवाद और शहर एक शाही राजधानी की कहानी: कक्षा 8 इतिहास की सभी प्रश्न उत्तर। यह वार्षिक परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण है। सभी प्रश्न एन० सी० ई० आर० टी० पुस्तक के आधार पर बनाया गया है। किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट में अपनी राय अवस्य लिखें ताकि हम इस website को आपके लिए और भी अधिक उपयोगी बना सके।

उपनिवेशवाद और शहर महत्वपूर्ण स्मरणीय तथ्य:

  • प्रेजीडेंसी: शासन की सुविधा के लिहाज से औपनिवेशिक भारत को तीन प्रेजीडेंसी मुंबई मद्रास और बंगाल में बांट दिया गया था यह तीनों प्रेजीडेंसी सूरत मद्रास और कोलकाता में स्थित ईस्ट इंडिया कंपनी के फैक्ट्रियों को ध्यान में रखकर बनाई गई थी।
  • 18वी सदी के आखिर में कोलकाता, बंबई और मद्रास भारत में ब्रिटिश सत्ता के केंद्र बन गए थे और उसी समय बहुत सारी दूसरे शहर कमजोर पड़ते जा रहे थे।
  • विशहरीकरण: जब व्यापार नए इलाकों में केंद्रित होने लगा तो पुराने व्यापारियों और बंदरगाह पहले वाली स्थिति में नहीं रहे अर्थात वे कमजोर पड़ने लगे इसी प्रकार जब अंग्रेजों ने स्थानीय राजाओ को हरा दिया और शासन के नए केंद्र पैदा हुए तो क्षेत्रीय सत्ता के पुराने केंद्र भी ढह गए। इस प्रक्रिया को विशहरिकरण कहा जाता है।
  • 1912 में दिल्ली ब्रिटिश भारत की राजधानी बनी थी। इससे पहले भारत की राजधानी कलकत्ता थी।
  • शहरीकरण: ऐसी प्रक्रिया जिसमें अधिक से अधिक लोग शहरों और कस्बों में जाकर रहने लगते हैं।
  • दरगाह: सूफी संत का मकबरा।
  • खानकाह: यात्रियों के लिए विश्राम घर और ऐसा स्थान जहां लोग आत्मिक मामलों पर चर्चा करते हैं संतों का आशीर्वाद लेते हैं या नृत्य संगीत कार्यक्रमों का आनंद लेते हैं।
  • ईदगाह: मुसलमानों का खुला प्रार्थना स्थल जहां सार्वजनिक प्रार्थना और त्योहार होते हैं।
  • कुल -दे- सेक: ऐसा रास्ता जो एक जगह जाकर बंद हो जाए।
  • शाहजहां ने शाहजहानाबाद को अपनी राजधानी बनाया था। शाहजहानाबाद की स्थापना 1639 में शुरू हुई।
  • लाल किले को लाल बलुआ पत्थर से बनाया गया है।
  • घने मोहल्लो और दर्जनों बाजारों से घीरी जामा मस्जिद भारत की सबसे विशाल और भव्य मस्जिदों में से एक थी उस समय पूरे शहर में इस मस्जिद से ऊंचा कोई स्थान नहीं था।
  • गुलफरेशान: फूलों का त्योहार।
  • पुनर्जागरण: इसका शाब्दिक अर्थ होता है कला और ज्ञान का पुनर्जन्म। यह शब्द ऐसे दौर के लिए इस्तेमाल किया जाता है जब बहुत बड़े पैमाने पर रचनात्मक गतिविधियां होती हैं।
  • 1824 में दिल्ली कॉलेज की स्थापना हुई।
  • अंग्रेजों का दिल्ली में कब्जे के बाद जामा मस्जिद में 5 साल तक किसी को नमाज की इजाजत नहीं मिली। जीनत अल मस्जिद को एक बेकरी में तब्दील कर दिया गया।
  • 1857 से पहले दिल्ली के हालात दूसरे औपनिवेशिक शहरों से काफी अलग थे। मद्रास और कोलकाता में भारतीय और अंग्रेजों की बस्तियां अलग-अलग होती थी भारतीय लोग काले इलाकों में और अंग्रेज लोग गोरे इलाकों में रहा करते थे।
  • पुराने शहर के निवासियों के लिए रॉबर्ट क्लार्क ने 1888 में लाहौर गेट सुधार योजना के नाम से एक विस्तार योजना तैयार की।
  • दिल्ली सुधार ट्रस्ट का गठन 1936 में किया गया। इस योजना के तहत संपन्न लोगों के लिए दरियागंज दक्षिण जैसे इलाके बनाए गए।

उपनिवेशवाद और शहर प्रश्न उत्तर:

सही या गलत बताएं:

  • पश्चिमी विश्व में आधुनिक शहर औद्योगिकरण के साथ विकसित हुए।
    उत्तर- सही।
  • सूरत और मछलीपट्टनम का 19वीं शताब्दी में विकास हुआ।
    उत्तर-गलत।
  • बीसवीं शताब्दी में भारत की ज्यादातर आबादी शहरों में रहती थी।
    उत्तर- गलत।
  • 1857 के बाद जामा मस्जिद में 5 साल तक नमाज नहीं हुई।
    उत्तर- सही।
  • नई दिल्ली के मुकाबले पुरानी दिल्ली की साफ सफाई पर ज्यादा पैसा खर्च किया गया।
    उत्तर- गलत।

रिक्त स्थान भरे:

  • सफलतापूर्वक गुबन्द का इस्तेमाल करने वाली पहली इमारत___________ थी।
    उत्तर- जामा मस्जिद
  • नई दिल्ली और शाहजहानाबाद की रूपरेखा तय करने वाले दो वास्तुकार__________ और___________ थे।
    उत्तर- एडवर्रेड लुटियन्स हर्बर्ट बेकर
  • अंग्रेज भीड़ भरे स्थानों को___________ मानते थे।
    उत्तर- बीमारियों का स्रोत
  • _________ के नाम से 1888 में एक विस्तार योजना तैयार की गई।
    उत्तर- लाहौर गेट सुधार योजना

Q.3. नई दिल्ली और शाहजहानाबाद की नगर योजना में तीन फर्क ढूंढे।
उत्तर: दिल्ली और शाहजहानाबाद की नगर योजना में 3 फर्क निम्नलिखित हैं:

  • दिल्ली और शाहजहानाबाद की नगर योजना का सबसे प्रमुख फर्क यह था की शाहजहानाबाद शाहजहानाबाद में भीड़ भरे मोहल्ले और संकरी गलियां थी जबकि नई दिल्ली में चौड़ी सीधी सड़कों और विशाल परिसरों के बीच बड़ी-बड़ी इमारतों को बनाया जाएगा।
  • नई दिल्ली शाहजहानाबाद के मुकाबले कहीं ज्यादा गुना साफ-सुथरी और स्वच्छ दिखाई पड़ती थी क्योंकि अंग्रेज गंदगी को बीमारियों का श्रोत मानते थे।
  • नई दिल्ली शाहजहानाबाद के मुकाबले ज्यादा हरा-भरा बनाया गया वहां पेड़ पौधे और बड़े-बड़े पार्क बनाए गए ताकि लगातार ताजी हवा और ऑक्सीजन मिलती रहे।

Q.4. मद्रास जैसे शहरों के गोरे इलाकों में कौन लोग रहते थे?
उत्तर: मद्रास जैसे शहरों के गोरे इलाकों में अंग्रेज रहा करते थे और काले इलाकों में भारतीय रहते थे। केवल मद्रास ही नहीं बल्कि मुंबई या कोलकाता में भी भारतीयों और अंग्रेजों की बस्तियां अलग-अलग होती थी। भारतीय लोग काले शहर इलाको तथा अंग्रेज लोग गोरे इलाकों में रहते थे।

संबधित पाठ भी पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.